पुरानी गाड़ियों की ख़रीद बेच करने वालों को लेने होंगे प्रमाणपत्र, चोरी हुई गाड़ियों की बिक्री पर लगेगी रोक

Vikas Sharma
By Vikas Sharma  - Senior Editor
old vehicles will have to take certificate sale

सरकार ने पुरानी कारों के कारोबार को और अधिक पारदर्शी बनाने का फैसला किया है। इसके तहत सरकार ने डीलरों की असलियत की पहचान करने के लिए पंजीकृत वाहनों के सौदे के लिए प्रमाणीकरण लागू किया है। नए नियम 1 अप्रैल, 2023 से लागू होंगे।

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने एक अधिसूचना जारी कर कहा है कि केंद्रीय मोटर वाहन अधिनियम, 1989 के अध्याय 3 में संशोधन किया गया है। यह संशोधन प्रयुक्त कार बाजार के लिए एक नियामक प्रणाली बनाता है। यह एक वाहन की आपूर्ति होने पर पंजीकृत वाहन मालिक को सूचित करने के लिए डीलरों के लिए प्रक्रिया निर्धारित करता है। यह पंजीकृत वाहनों को बनाए रखने के संबंध में डीलरों के अधिकारों और दायित्वों को भी स्पष्ट करता है।

जो डीलर कार बेचना जारी रखना चाहते हैं, उन्हें अपना पंजीकरण प्रमाणपत्र, वाहन फिटनेस प्रमाणपत्र और अन्य दस्तावेज़ों को नवीनीकृत करने के लिए आवेदन करना होगा। उन्हें वर्तमान में अपने पास मौजूद किसी भी वाहन के स्वामित्व का हस्तांतरण प्राप्त करने की भी आवश्यकता है।

ट्रिप रजिस्टर रखना अनिवार्य

अब इलेक्ट्रॉनिक वाहन रखरखाव ट्रिप रजिस्टर रखना अनिवार्य है, जिसमें वाहन के उपयोग के सभी विवरण दिए जाने चाहिए। इसमें गंतव्य, यात्रा का कारण, ड्राइवर, माइलेज और समय के बारे में जानकारी शामिल होगी। ये नियम पंजीकृत वाहनों और उनके डीलरों की पहचान करने और उन्हें अधिकृत करने में मदद करेंगे। इससे इन वाहनों की खरीद-बिक्री के संबंध में सुरक्षा भी मिलेगी।

अभी पुरानी कारों को खरीदने और बेचने में बहुत सारी समस्याएं हैं, जैसे नुकसान के लिए किसे भुगतान करना चाहिए, या कुछ गलत होने पर जिम्मेदार कौन है, इस बारे में असहमति। लेकिन नए नियम आने के बाद ये दिक्कतें दूर हो जाएंगी। यह विशेष रूप से लोगों को देश के ग्रामीण क्षेत्रों में चोरी की कारों को बेचने से रोकने में मदद करेगा।

Share this Article