गाड़ी चलाते समय नींद की झपकी से हो सकती हे दुर्घटना, बचने क लिए करे ये 5 उपाए

News Desk
By News Desk  - Editor
NEED KI JHAPKI 1

भारतीय क्रिकेटर ऋषभ पंत का हाल ही में एक कार एक्सीडेंट हुआ था। वह गाड़ी चला रहा था और सो गया, जिससे उसकी कार डिवाइडर से टकरा गई। यह घटना गाड़ी चलाते समय नींद आने की समस्या को उजागर करती है, जो एक बहुत ही आम समस्या है। विशेषज्ञों के अनुसार ज्यादातर झपकी आधी रात से सुबह पांच बजे के बीच आती है। यदि आप रात में ड्राइव करते हैं या करने की योजना बना रहे हैं, तो यहां कुछ सुझावों का पालन करना है।

यदि आप अच्छी तरह से आराम नहीं कर रहे हैं तो गाड़ी चलाना एक अच्छा विचार नहीं है। यदि आप थोड़ी देर के लिए गाड़ी चलाने जा रहे हैं, तो सुनिश्चित करें कि आपने आगे की योजना बनाई है ताकि आप गाड़ी चलाना शुरू करने से पहले अच्छी रात की नींद ले सकें। आपको कम से कम आठ घंटे की नींद का लक्ष्य रखना चाहिए।

जब आप नशे में हों तो गाड़ी चलाना सुरक्षित नहीं है क्योंकि आपके सो जाने और दुर्घटना का कारण बनने की संभावना अधिक होती है। आपको ऐसी दवा लेने से भी बचना चाहिए जिससे आपको नींद आती हो।

वाहन चलाते समय ब्रेक अवश्य लें ताकि आप सतर्क रह सकें। आप कॉफी या चाय के ब्रेक के लिए रुक सकते हैं, या जागते रहने के लिए कुछ स्ट्रेचिंग व्यायाम कर सकते हैं।

अगर आप खुद गाड़ी चला रहे हैं, तो जागते रहने के लिए संगीत एक अच्छा तरीका हो सकता है। लंबे समय तक ड्राइविंग करने से आप थक सकते हैं, जिससे आपको नींद आ सकती है। इससे बचने के लिए जरूरी है कि आप अपने मन को विचलित रखें।

यदि गाड़ी चलाते समय आपको नींद आ रही हो तो आखिरी चीज जो आप आजमा सकते हैं वह है कार को किसी सुरक्षित स्थान पर रोकना और झपकी लेना। अगर आपके साथ कोई दूसरा ड्राइवर है, तो उन्हें थोड़ी देर के लिए ड्राइविंग करने दें ताकि आप आराम कर सकें।

Share this Article